शनिवार, 30 अक्तूबर 2010

पुरूष शराब की ओर अधिक आकर्षित क्योँ होते हैँ?

सामान्यतया देखा गया हैँ कि पुरूष शराब की ओर अधिक आकर्षित होते रहेँ हैँ। Scientists ने अब इस संबंध मेँ महत्वपूर्ण खोज की है। एक शोध के अनुसार पुरूषोँ मेँ बाँयोलाँजिकल विशिषता के कारण शराब के प्रति आकर्षण अधिक होता हैँ। उन्होँने पाया कि एक निश्चित अवधि मेँ बीयर और वाइन पीने वाले पुरूषोँ ने अधिक आनंद का अनुभव किया। पाया गया कि अल्कोहल लेने के बाद पुरूष का मस्तिष्क अधिक मात्रा मेँ डोपामिन पदार्थ उत्पन्न करता हैँ। डोपामिन की मात्रा दिमाग के उस हिस्से को प्रभावित करती है, जहाँ से सर्वाधिक आनंद की अनुभूति होती है।

कोलम्बिया यूनिवर्सिटी की प्रोफेसर डाँ. नीना अर्बन ने बताया कि पुरूषोँ के दिमाग द्धारा अधिक मात्रा मेँ डोपामिन उत्पन्न किया जाना ही अल्कोहल के प्रति पुरूषो के मजबूत संबंध को दर्शाता हैँ, क्योँकि डोपामिन ही पुरूषोँ को अधिक मात्रा मेँ शराब सेवन के लिए उकसाता है।
आपके लिए अन्य लेख:-

रोगों के अनुसार अलसी का सेवन करें।
अलसी में सेक्स समस्या का समाधान।
तिमाही गर्भ निरोधक इंजैक्शन।
शादी के बाद बनती है अच्छी सेहत
क्या आप जानते है कि बेटी पैदा करने की ख्वाहिश कैसे पूरी हो सकती है?
कुछ सामान्य लक्षणों से जानें कैंसर का संकेत
बढ़ती उम्र में घटती आँखों की रोशनी को कैसे बढाएं।

-: MY OTHER BLOGS :-

> SANSAR(Ghazals)
> प्रेरक-विचार
> बचत और निवेश

शनिवार, 23 अक्तूबर 2010

बढ़ती उम्र मेँ घटती आँखों की रोशनी को कैसे बढ़ायेँ?

विटामिन ए से युक्त दवा आपको उम्र बढ़ने के साथ
होने वाली दृष्टिहीनता से बचा सकती हैं। शोधकर्ताओं
के मुताबिक यह दवा बुढापे में होने वाली दृष्टिहीनता
के सबसे सामान्य कारणों को दूर करती है।
शोधकर्ताओ द्वारा प्रस्तुत नई दवा "फेनरीटिनाइड" उम्र
बढ़ने के साथ मांसपेशियों में होने वाली क्षति को रोकती
है। इसे रोकने के लिए अब तक कोई इलाज उपलब्ध
नहीं था। यह दवा रेटिना के उस हिस्से की कोशिकाओं
की क्षति और मृत्यु को रोकती हैं जो सामने की ओर
सीधी दृष्टि के लिए आवश्यक होती है। पहले रेटिना की
ये कोशिकाएं नष्ट हो जाने से दृष्टि के बीचों-बीच एक
काला धब्बा बना दिखाई देता था। इस बजह से लोगों
को रोजमर्रा के कामों जैसे पढ़ने, वाहन चलाने या
टेलीविजन देखने में परेशानी होती है।

अमेरिकी शोधकर्ताओं ने विटामिन ए से निकाले गए
"फेनरीटिनाइड" का अध्ययन किया था। यह विटामिन
गाजर में पाया जाता है और मुख्य रुप से गठिया की
बीमारी को रोकता है। अध्ययन में रेटिना में कोशिकाओं
के मृत होने के कारण दृष्टिहीनता का शिकार हो रहें
250 स्त्रियों और पुरुषों पर शोध किया गया। अध्ययन
के परिणाम बताते है कि दवा की अधिक खुराक देने
से एक साल के अन्दर दृष्टिहीनता रुक गई। इससे स्पष्ट
होता है कि यह दवा पहले से ही मृत कोशिकाओं के
लिए तो कुछ नहीं कर सकती, परन्तु स्वस्थ कोशिकाओं
को बचा सकती है।



-: MY OTHER BLOGS :-


> SANSAR(Ghazals)

> प्रेरक-विचार

> बचत और निवेश

मंगलवार, 19 अक्तूबर 2010

बैक्टीरिया करेँगे अब वायरस का सफाया

दही मेँ पाये जाने वाले बैक्टीरिया को Scientists ने 'चांदी की बुलेट' मेँ तब्दील कर दिया है।
Scientists का दावा हैँ कि चांदी के ये बुलेट फ्लू और ठंड से लड़ेगेँ और वायरस का
सफाया करेँगे। Scientists ने पाया कि चांदी कि पतली परतोँ पर नुकसान नहीँ पहुँचाने
वाले इन बैक्टीरिया को लगाने से उनमेँ वायरस को खत्म करने की मारक शक्ति आ जाती हैँ।


Scientist ने चांदी मेँ पिरोय गए इन बैक्टीरिया को नोरोवायरस के खिलाफ लगाया और पाया कि ये बैक्टीरिया उन्हेँ प्रभावहीन कर देते हैँ। नोरोवायरस दुनिया भर मेँ होने वाले आँत्रशोथो (Enteritis) के 90% मामलोँ के लिए जिम्मेदार होते है। अनुसंधानकर्ताओँ का मानना है कि इसी तकनीक से अब इन्फ्लूएन्जा और सर्दी पैदा करने वाले अन्य वायरस का भी खात्मा किया जा सकेगा ।



-: MY OTHER BLOGS :-


> SANSAR(Ghazals)

> प्रेरक-विचार

> बचत और निवेश

रविवार, 10 अक्तूबर 2010

एलोवेरा ( ग्वारपाठा )मेँ स्वास्थ्य का खजाना

एलोवेरा अपने असंख्य औषधिय गुणोँ और अच्छे स्वाद के कारण तेजी से लोकप्रिय हो रहा हैँ। प्रमुख्यतः इसका जूस काफी लोकप्रिय हैँ और इसके जूस को एक बर्ष तक सुरक्षित रखा जा
सकता है। एलोवेरा मेँ 75 पोषक तत्व तथा 200 सक्रिय कम्पाऊण्ड पाये जाते हैँ जिनमेँ
20 खनिज तत्व, 18 अमिनो एसिड तथा 12 विटामिन्स मुख्यतः हैँ। इसके अलावा कई अन्य
अनजाने यौगिक तत्व भी इसमेँ पाये जाते हैँ।
 इसके पत्तोँ से रस निकालकर या इसका रस
 जिसे एलो जैल कहा जाता हैँ। बाजार से खरीद कर पिया जा सकता हैँ। इसके रस को
उपलब्ध तमाम स्वास्थ्यवर्धक पौष्टिक पूरकोँ मेँ से सर्वश्रेष्ट पूरक माना जाता हैँ। प्राकृतिक
उत्पाद होने के कारण न तो इसका कोई साइड इफैक्ट होता हैँ और न ही इसके प्रयोग से
कोई व्यक्ति इसका आदी होता हैँ बल्कि यह जैविक रूप से शरीर के लिए एकदम उपयुक्त
होता है। इसके रस के सेवन से जहाँ बीमार व्यक्ति अपना स्वास्थ्य ठीक कर सकता है वहीँ
 स्वस्थ व्यक्ति इसके सेवन से अपने स्वास्थ्य को बनाएँ रखकर अधिक समय तक जबान
बना रह सकता हैँ।
(1.) यह जोड़ो की सूजन तथा माँस पेशियोँ को सक्रिय बनाये रखने मेँ सहायता करता है।

( 2. ) इसमेँ कोलाजन तथा इलैस्टिन नामक फायबर पाया जाता हैँ जो कि हमारे शरीर के
उत्तकोँ की टूट-फूट होँने पर उनकी मरम्मत करता हैँ।

( 3.) इसमेँ anti-oxidents पाये जाते हैँ जोकि हमारे शरीर मेँ उत्पन्न Free-readicals को naturally detoxifying करते हैँ।

(4.) यह हमारे प्रतिरक्षण तन्त्र को मजबूत बनाता है। इसके लिए हमेँ रोजाना 20ml - 30ml तक इसका जूस पीना चाहिए।

( 5.) हमारे भोजन मेँ बहुत-सी गैर जरूरी चीँजे भी होती है, जिनकी बजह से हमेँ आलस्य तथा थकान होती है। एलोवेरा जूस रोजाना 20ml-30ml की मात्रा मेँ पीने से शरीर मेँ अन्दर से भरपूर तन्दुरूस्ती तथा ताजगी का अहसास होता है तथा ऊर्जा का उच्च स्तर बना रहता है और बजन शरीर के अनुकूल रहता है।

( 6.) एलोवेरा जूस पीने से हमारी आँते सक्रिय बनी रहती हैँ जिससे ये protein अच्छे से अवशोषित करती है तथा नुकसानदेह बैक्टीरिया को कम करता हैँ।

( 7.) इसमेँ फाइब्रोब्लास्ट की क्षमता को बढ़ाने की शक्ति होती हैँ। जिसके परिणामस्वरूप यह मामुली जलन, घावोँ, खरोचोँ, धूप की जलन और खाज-खुजली को कम करने मेँ भी सहायता करता हैँ।

( 8.) एलोवेरा विटामिन C तथा E का अवशोषण (Absorption) को बढ़ा देता है। जिससे हमारे दाँत तथा मसूड़े स्वस्थ रहते हैँ।

(9.) एलोवेरा जूस से हमेँ विटामिन A , B (B1, B2, B6, B12 ) , B, E, folic acid तथा Niacin प्रचुर मात्रा मेँ मिल जाता हैँ।

       अतः हम कह सकते हैँ कि एलोवेरा मेँ स्वास्थ्य का खजाना हैं।



-: MY OTHER BLOGS :-


> SANSAR(Ghazals)

> प्रेरक-विचार

> जाने अपने भाग्य , कैरियर और स्वास्थ्य के बारे मेँ अपने हाथ की रेखाओँ से

गुरुवार, 7 अक्तूबर 2010

क्या आप जानते हैँ कि बच्चोँ मेँ आँखोँ का खतरा ज्यादा होता हैँ?

आमतौर पर कोई भी सामान्य बच्चा पूरे साल मेँ किसी वयस्क के
मुकाबले 3 गुना अधिक अल्ट्रा वाँयलेट किरणोँ को ग्रहण करता हैँ।
एक व्यक्ति जीवनभर मेँ जितना अल्ट्रा वाँयलेट किरणोँ के प्रभाव
को ग्रहण करता हैँ , उसका 80 प्रतिशत वह 18 साल तक झेल लेता हैँ।


विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के अनुसार दुनियाभर मेँ हर साल होने
वाली दृष्टिहीनता मेँ 1 करोड़ 70 लाख मोतियाबिँद के कारण होती हैँ।
तेज रोशनी दृष्टि को खराब करती है। ऐसे मेँ बच्चे की आँखोँ को सुरक्षा
देने का प्रयास करेँ। इसके लिए बच्चोँ के चश्मेँ मेँ फोटोक्रोमिक लैँस का
प्रयोग करना एक बेहतर विकल्प हैँ।



-: MY OTHER BLOGS :-


> SANSAR(Ghazals)

> प्रेरक-विचार

> बचत और निवेश

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
 
Powered by Blogger