शनिवार, 1 जून 2019

एल्कलाइन भोजन

दोस्तों कई दिनों से हम सोच रहे थे हम आपको एक ऐसी चीज बताएं जिस से के आपके शरीर के सभी रोग स्वतः ही समाप्त हो जाए, जैसे डायबिटीज, कैंसर, हार्ट, ब्लड प्रेशर, जोड़ों का दर्द, UTI – पेशाब के रोग, Osteoporosis, सोरायसिस, यूरिक एसिड का बढ़ना, गठिया – Gout, थाइरोइड, गैस, बदहजमी, दस्त, हैजा, थकान, किडनी के रोग, पेशाब सम्बंधित रोग, पत्थरी और अन्य कई प्रकार के जटिल रोग. इन सबको सही करने का सबसे सही और सस्ता उपयोग है शरीर को एल्कलाइन कर लेना. किसी डॉक्टर ने इसके बारे में क्या खूब कहा है के –
“No Disease including cancer, can exist in an alkaline envioronment” Dr. Otto Warburg – Noble Prize Winner 1931
Ph level kya hai – पी एच लेवल क्या है?
इसको समझने के लिए सबसे पहले आपको PH को समझना होगा, हमारे शरीर में अलग अलग तरह के द्रव्य पाए जाते हैं, उन सबकी PH अलग अलग होती है, हमारे शरीर की सामान्य Ph 7.35 से 7.41 तक होती है, PH पैमाने में PH 1 से 14 तक होती है, 7 PH न्यूट्रल मानी जाती है, यानी ना एसिडिक और ना ही एल्कलाइन. 7 से 1 की तरफ ये जाती है तो समझो एसिडिटी बढ़ रही है, और 7 से 14 की तरफ जाएगी तो Alkalinity क्षारीयता बढ़ रही है. अगर हम अपने शरीर के अन्दर पाए जाने वाले विभिन्न द्रव्यों की PH को Alkaline की तरफ लेकर जाते हैं. तो हम बहुत सारी बीमारियों के मूल कारण को हटा सकते हैं, और उनको हमेशा के लिए Cure कर सकते हैं. ।

cancer and PH – कैंसर

उदहारण के तौर पर सभी तरह के कैंसर सिर्फ Acidic Environment में ही पनपते हैं. क्यूंकि कैंसर की कोशिका में शुगर का ऑक्सीजन की अनुपस्थिति में Fermentation होता है जिससे अंतिम उत्पाद के रूप में लैक्टिक एसिड बनता है और यही लैक्टिक एसिड Acidic Environment पैदा करता है जिस से वहां पर एसिडिटी बढती जाती है और कैंसर की ग्रोथ बढती जाती है. और ये हम सभी जानते हैं के कैंसर होने का मूल कारण यही है के कोशिकाओं में ऑक्सीजन बहुत कम मात्रा में और ना के बराबर पहुँचता है. और वहां पर मौजूद ग्लूकोस लैक्टिक एसिड में बदलना शुरू हो जाता है।

Gout and PH – गठिया

दूसरा उदहारण है के Gout जिसको गठिया भी कहते हैं, इसमें रक्त में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ जाती है, जिससे रक्त एसिडिक होना शुरू हो जाता है, जितना ब्लड अधिक एसिडिक होगा उतना ही यूरिक एसिड उसमे ज्यादा जमा होना शुरू हो जायेगा. अगर हम ऐसी डाइट खाएं जिससे हमारा पेशाब Alkaline हो जाए तो ये बढ़ा हुआ यूरिक एसिड Alkaline Urine में आसानी से बाहर निकल जायेगा।

UTI and PH – पेशाब का संक्रमण

तीसरा उदहारण है के UTI जिसको Urinary tract infection कहते हैं, इसमें मुख्य रोग कारक जो बैक्टीरिया है वो E.Coli है, ये बैक्टीरिया एसिडिक वातावरण में ही ज्यादा पनपता है. इसके अलावा Candida Albicanes नामक फंगस भी एसिडिक वातावरण में ही ज्यादा पनपता है. इसीलिए UTI तभी होते हैं जब पेशाब की PH अधिक एसिडिक हो. 

Kidney and PH – किडनी

चौथी एक और उदाहरण देते हैं के किडनी की समस्या मुख्यतः एसिडिक वातावरण में ही होती है, अगर किडनी का PH हम एल्कलाइन कर देंगे तो किडनी से सम्बंधित कोई भी रोग नहीं होगा. मसलन क्रिएटिनिन, यूरिक एसिड, पत्थरी इत्यादि समस्याएँ जो भी किडनी से सम्बंधित हैं वो नहीं होंगी. 

वर्तमान स्थिति

आजकल हम जो भी भोजन कर रहें हैं वो 90 प्रतिशत तक एसिडिक ही है, और फिर हमारा सवाल होता है के हम सही क्यों नहीं हो रहे. या फिर कहते हैं के हमने ढेरों इलाज करवाए मगर आराम अभी तक नहीं आया. बहुत दवा खायी मगर फिर भी आराम नहीं हो रहा. तो उन सबका मुख्यः कारण यही है के उनका PH लेवल कम हो जाना अर्थात एसिडिक हो जाना. आज हम इसी विषय पर बात करेंगे के कैसे हम अपना PH level बढ़ाएं और इन बिमारियों से मुक्ति पायें. 

कैसे बढ़ाएं PH level – Body ka PH kaise sahi kare

  1. कच्ची सब्जियां – विशेषकर लौकी, पालक, चौलाई, हरी अजवायन, गाजर, अदरक, पोदीना, गोभी, पत्ता गोभी, कद्दू, मूली, शिमला मिर्च, खीरा इत्यादि हरी पत्तेदार सब्जियां. इन सब सब्जियों को कच्चा या जूस बना कर ही सेवन करना है, इनको सब्जी की तरह पकाना नहीं है. जैसा प्रकृति ने दिया है वैसा ही इस्तेमाल करना है.
  2. फल – सेब, खुबानी, ऐवोकैडो, केले, जामुन, चेरी, खजूर, अंजीर, अंगूर, अमरुद, नींबू, आम, जैतून, नारंगी, संतरा, पपीता, आड़ू, नाशपाती, अनानास, अनार, खरबूजे, किशमिश, इमली, टमाटर इत्यादि फल.
  3. इसके अलावा तुलसी, सेंधा नमक, अजवायन, दालचीनी, बाजरा इत्यादि.

AlkaLine Water बनाने की विधि.

रोगी हो या स्वस्थ उसको यहाँ बताया गया ये Alkaline Water ज़रूर पीना है. इसके लिए ज़रूरी सामान – 1 निम्बू, 25 ग्राम खीरा, 5 ग्राम अदरक, 21 पोदीने की पत्तियां, 21 पत्ते तुलसी, आधा चम्मच सेंधा नमक, चुटकी भर मीठा सोडा. अभी इन सभी चीजों को लेकर पहले छोटे छोटे टुकड़ों में काट लीजिये, निम्बू छिलके सहित काटने की कोशिश करें. एक कांच के बर्तन में इन सब चीजों को डाल दीजिये और इसमें डेढ़ गिलास पानी डाल दीजिये, पूरी रात इस पानी को ढक कर पड़ा रहने दें. और सुबह उठ कर शौच वगैरह जाने के बाद खाली पेट सब से पहले इसी को छान कर पीना है. छानने से पहले इन सभी चीजों को हाथों से अच्छे से मसल लीजिये. और फिर इसको छान कर पीजिये. 

Alkaline के लिए दूसरी विधि.

1 लौकी जिसे दूधी भी कहा जाता हैं का जूस एक गिलास इसमें 5-5 पत्ते तुलसी और पोदीने के डालिए इसमें सेंधा नमक या काला नमक डाल कर पियें।
ध्यान रहे के इनको सुबह खाली पेट ही पीना है, अर्थात इनसे पहले कुछ भी खाना पीना नहीं है और इनको पीने के बाद एक घंटे तक कुछ भी खाना पीना नहीं है.
चाय कॉफ़ी चीनी ये सब ज़हर के समान है, अगर आप किसी रोग से ग्रस्त हैं तो सबसे पहले आपको इनको छोड़ना होगा, और इसके साथ ऊपर बताये गए फल सब्जियां कच्चे ही सेवन करें.

शनिवार, 2 मार्च 2019

पित्त की थैली की पथरी (gall bladder stone) का इलाज संभव है।

एक पुरुष पेशेंट जिसकी उम्र लगभग 42 yrs थी वह पित्त की थैली की पथरी (Gallstone) से पीड़ित था जिसका साइज 13.3 MM था, उसको 90 डेज का ट्रीटमेंट दिया था। जिसकी treatment से पहले की रिपोर्ट निम्न है:-
फर्स्ट ट्रीटमेंट से ही लगभग 69 दिन में ही पित्त की थैली की पथरी घुलकर समाप्त हो गई। पेशेंट की ट्रीटमेंट के बाद की रिपोर्ट निम्न है

इस ट्रीटमेंट से दर्द होना तो पहले दिन से ही बंद हो गया था।अब ये पूरी तरह से ठीक क्योर(cure) हैं।
इनका इलाज इलेक्ट्रो-होम्योपैथी की हर्बल मेडिसिन से किया गया है जो की शरीर के भीतर के सभी विषों(टॉक्सिन्स) को बाहर करके शरीर के रस(लिम्फ) और खून (ब्लड) को शुद्ध (pure) करके शरीर को नवजीवन प्रदान करती हैं। इस पद्दति की मेडिसिन हानि रहित होती हैं , इनका कोई इफ़ेक्ट नही होता है। 

Dr. Ashok kumar
(Mob:- 9716126839, 8178513616)

बुधवार, 30 जनवरी 2019

सफेद दाग (Leucoderma) का इलाज संभव है।

Case N0:- 2
यह एक पुरुष पेशेंट है जिसकी उम्र 24 साल है। इसके हाथों में सफेद दाग का रोग पिछले 8 साल से है। इसके हाथ की फ़ोटो इलाज(ट्रीटमेंट) से पहले की निम्न है:-
अब इनका इलाज इनकी प्रकृति (Temperament) और सही निदान(diagnosis) के बाद Electro homeopathy  की हर्बल मेडिसिन से किया गया है अभी 4 माह के इलाज(ट्रीटमेंट) के बाद इन्हें काफी आराम(रिलीफ) है जिसका फ़ोटो निम्न है:-

इनका इलाज(ट्रीटमेंट) अभी continue है। इनका इलाज इलेक्ट्रो-होम्योपैथी की हर्बल मेडिसिन से किया गया है जो की शरीर के भीतर के सभी विषों(टॉक्सिन्स) को बाहर करके शरीर के रस(लिम्फ) और खून (ब्लड) को शुद्ध (pure) करके शरीर को नवजीवन प्रदान करती हैं। इस पद्दति की मेडिसिन हानि रहित होती हैं , इनका कोई इफ़ेक्ट नही होता है। 

 DR. ASHOK KUMAR
 Mob:- 9716126839, 8178513616

मंगलवार, 29 जनवरी 2019

सफेद दाग (Leucoderma) का सफल इलाज (ट्रीटमेंट) संभव है।





Case N0 :- 1

एक महिला पेशेंट जिसकी उम्र 30 साल है। पिछले 12 साल से सफेद दाग के रोग से पीड़ित थी। उस समय का उसका फ़ोटो निम्न है :-


वो अब से 6 माह पहले मेरे पास आई थी तो उसका ट्रीटमेंट उसकी प्रकृति (टेम्परामेंट) चेक करने और डायग्नोसिस करने के बाद शुरू किया गया।
उसे पहले 2 महीने में ही 10% आराम मिल गया था लेकिन 6 महीने में 80% ठीक हो गई है और इलाज अभी continue  चल रहा है। अब की फोटी निम्न है:-

इनका इलाज इलेक्ट्रो-होम्योपैथी की हर्बल मेडिसिन से किया गया है जो की शरीर के भीतर के सभी विषों(टॉक्सिन्स) को बाहर करके शरीर के रस(लिम्फ) और खून (ब्लड) को शुद्ध (pure) करके शरीर को नवजीवन प्रदान करती हैं। इस पद्दति की मेडिसिन हानि रहित होती हैं , इनका कोई इफ़ेक्ट नही होता है। 

Dr. Ashok kumar Mob:- 9716126839, 8178513616


मंगलवार, 22 जनवरी 2019

पित्त की थैली की पथरी (GALLBLADDER STONE) का इलाज संभव है।

एक पेशेंट जिसकी उम्र लगभग 30 yrs थी वह पित्त की थैली की पथरी (Gallstone) से पीड़ित था उसको 45 डेज का ट्रीटमेंट दिया था। जिसकी treatment से पहले की रिपोर्ट निम्न है:-

फर्स्ट ट्रीटमेंट से ही लगभग 45 दिन में ही पित्त की थैली की पथरी घुलकर समाप्त हो गई। पेशेंट की ट्रीटमेंट के बाद की रिपोर्ट निम्न है


इस ट्रीटमेंट से दर्द होना तो पहले दिन से ही बंद हो गया था।अब ये पूरी तरह से ठीक क्योर(cure) हैं।
इनका इलाज इलेक्ट्रो-होम्योपैथी की हर्बल मेडिसिन से किया गया है जो की शरीर के भीतर के सभी विषों(टॉक्सिन्स) को बाहर करके शरीर के रस(लिम्फ) और खून (ब्लड) को शुद्ध (pure) करके शरीर को नवजीवन प्रदान करती हैं। इस पद्दति की मेडिसिन हानि रहित होती हैं , इनका कोई इफ़ेक्ट नही होता है। 

Dr. Ashok kumar
(Mob:- 9716126839, 8178513616)

बुधवार, 7 नवंबर 2018

अगर दिखें ये 5 संकेत तो समझ लें आपका Digestive System है खराब


पाचन तंत्र भोजन को ऊर्जा में बदल कर आपके शरीर को रोगों से लड़ने के सक्षम बनाता है। इसलिए बिना अच्छे डाइजेशन के स्वस्थ रहना भी मुश्किल है। पाचन क्रिया खराब होने पर आपको न तो खाना पचता है और न ही भरपूर पोषण मिलता है। वहीं, खराब डाइजेशन के कारण आपको मतली आना, पेट दर्द या सूजन, अपच और गैस जैसी प्रॉब्लम का सामना भी करना पड़ता है। विशेषज्ञों के अनुसार, खराब डाइजेशन यानि पाचन क्रिया में गड़बड़ी कई गंभीर बीमारीयों का कारण बन सकती हैं। ऐसे में इनसे संकेतों को पहचानकर समय पर इलाज करवाना बहुत जरूरी है। आज हम आपको खराब डाइडेशन के कुछ ऐसे लक्षण बताने जा रहे हैं, जिसे पहचानकर आप भी पाचन क्रिया में सुधार कर सकते हैं।

सोमवार, 7 मई 2018

Flaxseed Oil for Women's Health

This oil is considered as a boon for women's health. Given below are some of the many benefits of flaxseed oil, especially to women, which will be followed by the common benefits to men and women.
  • The essential fatty acids in flaxseed oil help to minimize the risk of breast cancer. Researches have found that a high content of omega-3 fatty acids can reduce the incidence of breast cancer.
  • It can be used to treat various women's health problems such as premenstrual syndrome, menstrual cramps, pre-menopausal symptoms, endometriosis and female infertility. It can also improve uterine function and health.

रविवार, 6 मई 2018

गुप्त रोगो क़ी चमत्कारी दवा

सबसे पहले तो अलसी आप और आपके जीवनसाथी की त्वचा को आकर्षक, कोमल, नम, बेदाग व गोरा बनायेगी। आपके केश काले, घने, मजबूत, चमकदार और रेशमी हो जायेंगे।

अलसी आपकी देह को ऊर्जावान, बलवान और मांसल बना देगी। शरीर में चुस्ती-फुर्ती बनी गहेगी, न क्रोध आयेगा और न कभी थकावट होगी। मन शांत, सकारात्मक और दिव्य हो जायेगा।

अलसी में विद्यमान ओमेगा-3 फैट, आर्जिनीन एवं लिगनेन जननेन्द्रियों में रक्त के प्रवाह को बढ़ाती हैं, जिससे शक्तिशाली स्तंभन तो होता ही है साथ ही उत्कृष्ट और गतिशील शुक्राणुओं का निर्माण होता है। इसके अलावा ये शिथिल पड़ी क्षतिग्रस्त नाड़ियों का कायाकल्प करते हैं जिससे सूचनाओं एवं संवेदनाओं का प्रवाह दुरुस्त हो जाता है।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
 
Powered by Blogger