शनिवार, 21 अगस्त 2010

Do you know how good sleep comes?

You will want know how some people take sleep interesting are in the midst of noise, while some are, whose sleep open to even the slightest sound. कुछ लोगोँ की नीँद कभी पूरी नहीँ हो पाती है तो कुछ लोग किसी भी माहौल मेँ डट कर सो लेते हैँ। It's never completely fade of people'sleep something, some people get sleep in any environment. So now to know that cause is the sweet sleep.


There are researcher concluded that part of the brain is responsible Thalamas. यह भाग नीँद के दौरान शोर को बाधित कर देता है, जिससे लोगोँ को आसपास हो रहे शोर का पता ही नहीँ चलता। This section blocks the noise during the sleep, the noise of the people do not know It's going to be around.

मुख्य शोधकर्ता जेफ्रे एलेनबोगन ने कहा कि दिमाग का यह हिस्सा आवाज पर प्रतिक्रिया देने वाले इलाकोँ तक शोर संबंधी सूचनाएं नहीँ पहुँचने देता। Chief researcher Jeffrey Elenbogn said part of the brain responding to voice It's area makes accessing information about the noise. नीँद के दौरान दिमाग मेँ पैदा होने वाली विधुतीय हरकत, जिसे "Sleep spindles" भी कहते हैँ, शोर को control करती हैँ। The waves act caused the brain tour, the "Sleep spindles" There are also,'re used to noise control. दरअसल, यह Sleep spindles ही गहरी या साधारण नीँद के लिए जिम्मेदार होते हैँ। Actually, the Sleep spindles are responsible for the deep or simple sleep.

Scientists के अनुसार कुछ लोगोँ मेँ यह ज्यादा प्रभावी होता है, जिससे उनकी नीँद जल्दी से नहीँ टूटती। Scientists are effective, According to the Scientists tour some Logoँ bringing Niँd not be quickly broken. ज्यादा Sleep spindles उत्पन्न करने वाले लोग ही शोर मेँ भी मजे की नीँद ले पाते हैँ। Sleep spindles generate more noise that people fail to take a tour Niँd There are also interesting. इसके विपरीत जिन लोगोँ के दिमाग मेँ कम Sleep spindles उत्पन्न होते हैँ वह हल्की सी आहट पर भी जाग जाते हैँ। In contrast Sleep spindles are generated at the Logoँ're a tour of the brain to sound the wake There are slight.



-: MY OTHER BLOGS :-


> SANSAR(Ghazals)

> प्रेरक-विचार

> बचत और निवेश

रविवार, 1 अगस्त 2010

अपने कैरियर के विषय मेँ जानेँ

इंटरव्यू , टेस्ट और कैरियर काउंसलिँग के आलावा अपने आइडियल जाँब या कैरियर की दिशा जानने के लिए अब आपके पास दिमाग की स्कैनिँग एक अच्छा विकल्प हो सकता है। - व्यक्ति की कमजोरी और स्ट्रेँथ दोनो के लिए ही मस्तिष्क की बनावट जिम्मेदार होती है। हाल ही मेँ प्रोफेसर रिचर्ड हैयर की रिसर्च ने यह साबित कर दिया है कि हमारे दिमाग का ग्रे पार्ट (Grey metter) गणना ( calculation) करने के लिए प्रयोग मेँ आता है और सफेद पार्ट (White metter) कम्यूनिकेशन मेँ काम आता है।


(1.) ग्रे पार्ट दिमाग के जिस हिस्से मेँ होता है , उसकी मैपिँग करने से यह भी पता चल जाता है कि व्यक्ति अंको के विषय को सीखने और समझने मेँ कितना अच्छा रहेगा। अतः जो व्यक्ति तर्क-वितर्क और मेमोरी टेस्ट मेँ अच्छे होते हैँ , उनके दिमाग मेँ ग्रे मेटर अधिक होता है।

(2.) सफेद पार्ट (White metter) दिमाग के जिस हिस्से मेँ होता है उसकी मैपिँग करने से व्यक्ति की कम्यूनिकेशन शक्ति का पता चल जाता है।





-: MY OTHER BLOGS :-


> SANSAR(Ghazals)

> प्रेरक-विचार

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
 
Powered by Blogger