बुधवार, 29 दिसंबर 2010

बांझपन ( इनफर्टिलिटी ) की बंदिश अब नही रहेगी

फैलोपियन टयूब के विकारग्रस्त होने से निःसंतान होना एक व्यक्तिगत समस्या है , किन्तु जिसके जीवन मेँ यह होती वह मानसिक और सामाजिक रूप से टूट जाता है । एक अनुमान के अनुसार दस मेँ से एक दंपति इस समस्या से ग्रस्त हैं ।
इस प्रकार के बांझपन (इनफर्टिलिटी) के लिए मोटे तौर पर एक तिहाई मामलोँ मेँ महिलाएँ , एक तिहाई मेँ पुरूष और शेष मेँ दोनोँ जिम्मेदार हो सकते हैँ । जहाँ तक महिलाओँ की बात है तो उनमेँ बांझपन का एक प्रमुख कारण फैलोपियन टयूब की गड़बड़ी है । 25 से 30 प्रतिशत महिलाओँ मेँ बांझपन का कारण फैलोपियन टयूब का अवरूद्ध (ब्लाँक्ड) होना या उसमे किसी प्रकार का विकार का पाया जाना है ।
जहाँ तक गर्भ ठहरने की बात है तो महिलाओँ मेँ ओवरी ( Overy) से अंडाणु का उत्पादन होता है । ये अंडाणु फैलोपियन टयूब के रास्ते गर्भाशय मेँ जाते हैँ , जहाँ उनका मिलन शुक्राणुओँ से होता है और इसके बाद ही गर्भ ठहरता है ।


-: बिमारी का स्वरूप :-


जहाँ तक फैलोपियन टयूब मेँ खराबी की बात है तो इसका एक सिरा ओवरी के पास होता है तो दूसरा सिरा गर्भाशय मेँ खुलता है । ओवरी वाले सिरे पर उंगलियोँ के आकार की संरचनाएँ पायी जाती हैँ जो ओवरी से निकलने वाले अंडाणु को टयूब के अन्दर पहुँचाती हैँ । यहाँ पर टयूब की लाइनिँग महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है । इसी टयूब के अन्दर अंडाणु को पोषण मिलता है और ऐसा वातावरण भी मिलता है कि वह शुक्राणु से मिल सके । टयूब की लाइनिँग इसके अन्तिम सिरे पर होती है । यहीँ पर अंडा निषेचित (फर्टिलाइज्ड) होता है और पाँच दिनोँ मेँ यह निषेचित अण्डाणु गर्भाशय मेँ पहुचँकर उसकी लाइनिँग से जुड़कर बड़ा होने लगता है


-: विकार का कारण :-


फैलोपियन टयूब मेँ आने वाले विकार के कारणोँ मेँ संक्रमण जैसे - टी.बी , एंडोमेट्रियोसिस , क्लेमाइडिया हाइड्रोसाल्पिँक्स , एक्टोपिक प्रेग्नेन्सी आदि कारण हैँ ।


-: उपचार :-


* अगर फैलोपियन टयूब बच्चेदानी के पास से अवरूद्ध है , तो खराब टयूब के भाग को हटाकर अच्छी टयूब टयूब के भाग को बच्चेदानी से जोड़ा जाता है । इसके अलावा बच्चेदानी के रास्ते से ' कैनुला ' डालकर खोला जा सकता है ।

* टयूब के ओवरी के सिरे से बंद होने की स्थिति मेँ लैप्रोस्कोपी के द्धारा टयूब के ' फिब्रिया ' को खोला जा सकता है और आसपास मौजूद जाला और झिल्ली को साफ किया जा सकता है ।

* यदि टयूब मेँ पानी या रक्त भरा हो तो भी उसे साफ कर टयृब खोली जा सकती है ।

* अधिकतर मामलोँ मेँ ऐसा देखा गया है कि टयूब मेँ संक्रमण या जाले बनने के शुरूआती दौर मेँ ही लैप्रोस्कोपी के माध्यम से जाँच व उपचार कर 'IUI' तकनीक के द्धारा गर्भ ठहरने से संबंधित इलाज किया जाता है , किन्तु यदि संक्रमण पुराना है और उसके कारण टयूब का ज्यादातर भाग खराब हो तब 'IUI' तकनीक सफल नहीँ होती । ऐसे मे ' आई वी एफ ' या इक्सी (टेस्ट टयूब बेबी) तकनीक का प्रयोग कर गर्भ ठहराया जाता है ।


डाँ. मधु लूम्बा
वरिष्ठ स्त्री रोग
व इनफर्टिलिटी स्पेशलिस्ट

mrsanchar@yahoo.com



-: MY OTHER BLOGS :-


> SANSAR(Ghazals)

> प्रेरक-विचार

> बचत और निवेश

बुधवार, 22 दिसंबर 2010

स्मरण शक्ति ( मैमोरी ) बढ़ाने के आसान उपाय

अक्सर लोगोँ की शिकायत होती है कि उन्हेँ बातेँ याद नहीँ रहती हैँ । मन एकाग्रचित नहीँ रहता । उम्र के साथ याददाश्त कमजोर होना आम बात है , लेकिन बच्चोँ और युवाओँ मेँ भी यह समस्या देखने को मिलती है । लेकिन अधिकतर समस्या रिकाल करने मेँ होती है क्योँकि हमारे दिमाग को रिकाल प्रोसेस के लिए जिन पोषक तत्वोँ (supplements) की आवश्यकता होती है उनकी हमारे शरीर मेँ कमी हो जाती है । अतः उन पोषक तत्वोँ की पूर्ति करने के लिए आप इन उपायोँ को आजमाँ सकते हैँ ।

* दिन मेँ कुछ मिनट के लिए सब कुछ भूल कर ध्यान लगाएँ ।

* रोज एक कप चुकंदर का जूस पियेँ । इससे मस्तिष्क संबंधी विकार दूर होते हैँ ।

* आठ - दस खजूर रोज दूध मेँ उबाल कर पीने से स्मरण शक्ति बढ़ती है ।

* सुबह खाली पेट आंवले का मुरब्बा खाएँ । कुछ देर तक ऊपर से पानी या दूध नहीँ पिएँ ।

* रोज दो चम्मच गेँहूँ के ज्वारे का रस पिएँ ।

* पीपल के पेड़ की छाल पीसकर इसे दो चम्मच शहद या पानी के साथ लेँ ।

* पिस्ता और तिल की बर्फी भी फायदा करती है ।

* खरबूज के छिले हुए बीज को घी मेँ भूनकर रख लेँ । रोजाना सुबह - शाम खाने के बाद थोड़े - थोड़े खाएँ ।



-: MY OTHER BLOGS :-


> SANSAR(Ghazals)

> प्रेरक-विचार

> बचत और निवेश

गुरुवार, 9 दिसंबर 2010

रीगेन हेयर ट्रीटमेँट द्धारा गिरते बालोँ पर लगाएँ विराम

युवकोँ मेँ या कम उम्र मेँ बालोँ का गिरना एक ऐसी समस्या है, जिसे वही समझ सकता है, जो इस समस्या से जूझ रहा हो।
बाल गिरने की समस्या के समाधान के लिए अनेक लोग कई नुस्खोँ को सुझाते हैँ, जो कि scientific नही होते, किँतु अब मान्यता प्राप्त आधुनिक "Regain hair treatment" शुरू हो चुका है।
इस ट्रीटमेँट के प्रचलन मेँ आने से बालोँ के गिरने की समस्या से पीड़ित लोगोँ को काफी राहत मिली है।




क्या है यह तकनीक



रीगेन हेयर ट्रीटमेँट प्रत्येक व्यक्ति के लिए व्यक्तिगत स्तर पर किया जाता है। इस ईलाज मेँ विभिन्न दवाओँ व अत्याधुनिक यंत्रोँ जैसे ' लेजर व डरमा रोलर' का प्रयोग किया जाता है। इस ट्रीटमेँट मेँ प्रयुक्त होने वाला लेजर विशेष रूप से विकसित किया गया है, जो केशोँ की जड़ोँ मेँ blood circulation को बढ़ा देता है। इस कारण बालोँ की जड़ेँ मजबूत होती हैँ और बाल मोटे (थिक) होते हैँ।
इसी तरह डरमा रोलर एक ऐसा विशेष उपकरण है, जिसके द्धारा दवाएँ सीधे बालोँ की जड़ोँ तक पहुँचकर लाभ देती हैँ। यह treatment अधिकतर लोगोँ को तीन महिने मेँ परिणाम प्रदान करता है।


इसे भी जानेँ


रीगेन हेयर ट्रीटमेँट करने से पहले किसी व्यक्ति के बालोँ के गिरने का कारण जानना आवश्यक है। इसके लिए रक्त और त्वचा की जाँचेँ करने के बाद उसी आधार पर इलाज किया जाता है।


बालोँ के गिरने का कारण


केश गिरने के हर व्यक्ति मेँ अलग अलग कारण हो सकते हैँ। जैसे :-
* आनुवांशिक ।
* फंगल इंफेक्शन ।
* कुछ बिमारियोँ और दवाईयोँ का दुष्प्रभाव ।
* तनावपूर्ण व नकारात्मक सोच ।
* हार्मोन्स का असंतुलन ।
* डाइबिटीज व एनीमिया की बीमारी ।


एन्ड्रोजीनिक एलोपेसिया


अधिकांश पुरूषोँ के गंजेपन की अवस्था को एन्ड्रोजेनिक एलोपेसिया कहते हैँ। इसका कारण DHT नामक हार्मोन होता है, जो टेस्टोस्टेराँन हार्मोन के विघटन से बनता है। ऐसा देखा गया है कि 35 साल की आयु तक अनेक पुरूषोँ के बाल गिरने लगते हैँ। इसी तरह 45% लोगोँ के बाल पतले (Thin) होने लगते हैँ, परन्तु जो अवस्था सबसे ज्यादा तकलीफ देती है वह यह है कि 25% पुरूषोँ मेँ 21 साल के आसपास गंजेपन की प्रक्रिया शुरू हो जाती है। जिससे उनका आत्मविश्वास कम हो जाता है।





-: MY OTHER BLOGS :-


> SANSAR(Ghazals)

> प्रेरक-विचार

> बचत और निवेश

गुरुवार, 2 दिसंबर 2010

कंप्यूटर से आँखोँ की सुरक्षा कैसे करेँ ?

कंप्यूटर पर ज्यादा समय तक काम करने से सबसे ज्यादा दबाव आँखोँ पर पड़ता है । इससे आँखोँ मेँ जलन, खुजली, थकान, पानी आना और लालपन जैसी समस्या आने लगती है । ऐसी तमाम समस्याओँ से बचने के लिए आँखोँ की देखभाल बहुत जरूरी है ।



आँखोँ का बचाव कैसे करेँ


* कंप्यूटर पर लगातार काम न करेँ । हर आधे घंटे बाद ब्रेक लेँ । लंबे समय तक टीबी न देखेँ ।

* आँखोँ के व्यायाम करेँ । गर्दन को बिना हिलाए आँखोँ को ऊपर नीचे, दाएं बाएं और गोल घुमाएं ।
* विटामिन ए युक्त आहार लेँ । दूध, मक्खन, पपीता, आम, सोयाबीन, खजूर, दालेँ, गाजर, टमाटर और हरी सब्जियाँ इसका अच्छा स्त्रोत हैँ ।
* आँखोँ मेँ जलन या थकान लगे तो बंद आँखोँ पर गुलाब जल, कटे आलू या खीरे के गोल टुकड़ेँ रखेँ ।
* रूई को हल्के गर्म दूध मेँ भिगोकर आँखोँ पर रखने से भी आराम मिलेगा ।
* भरपूर नीँद लेँ, ताकि आँखोँ को आराम मिल सके ।
* आँखोँ के लिए योग क्रियाएँ भी करेँ। जैसे :- सूर्य भेदन प्रणायाम, चक्षु व्यायाम, जल नेती, सूत नेती व त्राटक क्रियाएँ आदि । इनसेँ आँखोँ के दृष्टि दोष जैसे :- दूर का न दिखाई देना या पास का न दिखाई देना आदि ठीक हो जाते हैँ ।
* आँखोँ मेँ ज्यादा तकलीफ होने पर तुरन्त डाँक्टर की सलाह लेँ ।



-: MY OTHER BLOGS :-


> SANSAR(Ghazals)

> प्रेरक-विचार

> बचत और निवेश

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
 
Powered by Blogger