शनिवार, 18 जनवरी 2014

प्रेम हॉर्मोन क्या होता है?

क्या आपने कभी सोचा है कि जब आप किसी शोरगुल वाले स्थान पर होते हैं। तब आप सिर्फ उसी व्यक्ति की बात क्यों सुन पाते हैं, जो आपके सामने है या जिसे आप सुनना चाहते हैं। बाकी लोगों की आवाज पर आपका ध्यान क्यों नहीं जाता।

ऐसा हमारे मस्तिष्क में मौजूद सामाजिक और पैतृक संबधों को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले 'प्रेम हॉर्मोन' के कारण ऐसा होता है, जिसे ऑक्सीटोसिन कहते हैं।

अनुसंधानकर्ताओं ने बताया है कि ऑक्सीटोसिन किस तरह एक न्यूरो हॉर्मोन की तरह काम करते हुए न केवल हमारे दिमाग से पीछे के शोर को कम कर देता है, बल्कि वांछित संकेतकों को प्रबल बना देता है।

एनवाईयू लैंगोन मेडिकल सेंटर के न्यूरोसाइंस इंस्टीट्यूट के निदेश रिचर्ड डब्ल्यू सीन ने कहा, "दिमाग के माध्यम से सूचना भेजने में ऑक्सीटोसिन की भूमिका महत्वपूर्ण है।" अध्ययनों में पाया गया है कि ऑटिज्म स्पेक्ट्रम डिसॉर्डर (एएसडी) से पीड़ित बच्चों में ऑक्सीटोसिन का स्तर कम होता है।

वर्तमान अध्ययन जेनेवा के शोधकर्ताओं द्वारा 30 साल पहले हुए शोध के परिणामों पर किया गया है, जिसमें बताया गया था कि ऑक्सीटोसिन दिमाग के स्मृति और ज्ञान वाले हिस्से, जिसे हिप्पोकैंपस कहते हैं, में सक्रिय होता है। यह हॉर्मोन तंत्रिका कोशिकाओं को प्रेरित करता है और गाबा नामक एक रसायन बनाता है, जो तंत्रिका कोशिकाओं को शिथिल कर देता है।

डॉ. सीन ने कहा, "पिछले अनेक परिणामों के आधार पर हमें लगा कि ऑक्सीटोसिन, पीछे के शोर और जरूरी संकेतों को स्थिर करके दिमाग को हर तरह से शिथिल कर सकता है। लेकिन इसकी जगह हमने पाया कि ऑक्सीटोसिन प्रेरित आवेगों की विश्वस्नीयता बढ़ाता है, जो दिमाग के लिए अच्छा है। लेकिन यह बहुत अप्रत्याशित है।" एनवाईयू लैंगोन मेडिकल सेंटर में न्यूरोसाइंस एवं साइकॉलजी के प्रोफेसर, डॉ. गॉर्ड फिशेल ने बताया, "ऑक्सीटोसिन की एक ही क्रिया से मजबूत संकेत और शोर का दबा वातावरण एकसाथ पैदा होते हैं।"

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

 
Powered by Blogger